Wednesday, July 24, 2024
Google search engine
spot_img

REG :- UDYAM-CG-02-0020464

स्टोन डस्ट का मिलावट कोटा ओमेक्स कोलवाशरी में,लाखों रुपए का कर रहा हर रोज गाढ़े कमाई।

कोटा। कोयला में मिलावट का खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोयला ट्रांसपोर्टरों पर ठंढ़े बस्ते पर पड़ी कार्यवाही इसका नतीजा माना जा रहा है। वर्तमान में कोटा करगीरोड रेल्वे स्टेशन समीप स्थित ओमेक्स कोलवाशरी में जमकर मिलावट हो रहा है। मिलावट के बाद कोयला ट्रेनों में लोड कर विद्युत उत्पादक कंपनियों को भेजा जा रहा है। मिलावट के इस खेल में एक ओर जहां कोयला की गुणवत्ता खराब हो रही है। वहीं दूसरी ओर मिलावट के इस काले कारनामे से कारोबारी हर रोज लाखों रुपए की काली कमाई कर रहे हैं। कोयला में मिलावट के लिए ट्रांसपोर्टर कोरबा जिले सहित अन्य जगहों से स्टोन डस्ट ला रहे हैं। हर रोज दर्जन भर भारी वाहन स्टोन डस्ट लेकर ओमेक्स कोलवाशरी पहुंच रहे हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोरबा जिले से स्टोन डस्ट की रवानगी निजी उपयोग में लाने का हवाला देकर किया जाता है। बताया गया कि एक ट्रक स्टोन डस्ट की मिलावट की जाती है तो उसी के तौल के अनुरूप कोयला निकाल लिया जाता है। इससे कोयला के वजन पर कोई असर नहीं पड़ता है। इधर एक ट्रक कोयला की कालाबाजारी में तीन लाख रुपए तक की काली कमाई हो जाती है। कोयला दूसरे राज्य भेजा जाता है।

कार्यवाही नहीं होने से कोल माफियाओं के हौसले बुलंद।

जिला खनिज विभाग की लग रही मिली भगत।

खनिज विभाग द्वारा कार्यवाही नहीं करना कई सवालों को दोहराया जा रहा। जिला खनिज विभाग द्वारा कोटा में चल रहे ओमेक्स कोलवाशरी में किसी प्रकार की अब तक कार्यवाही नहीं कि है जिसके कारण स्टोन डस्ट रात्रि को अंधेरे में हर रोज 15 से 20 ट्रैलर बाहर से पहुंच रहे ।

स्थानीय पुलिस नहीं करती कार्यवाही,

बाहर से स्टोन डस्ट निजी उपयोग बता कर ओमेक्स कोलवाशरी में हर रोज पहुंच रहा जिसके बाद भी इस पर पुलिस द्वारा पूछ परख भी नहीं की जाती।

बहरहाल सैकड़ों ट्रैलर स्टोन डस्ट भंडारण पर जिम्मेदार विभाग क्या कार्यवाही करती है यह देखने वाली बात है।

Manish Kaushik
Manish Kaushikhttp://tilaknews.in
Editor in chief (स्वामी प्रकाशक / प्रधान संपादक )
BILASPUR WEATHER

ताजा खबर